मुख्य पटल विकास-संचार में डिप्लोमा

विकास-संचार में डिप्लोमा

इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों में विकास की अवधारणाओं से परिचित कराना है। साथ ही, सामाजिक बदलाव के लिए सोशल मीडिया के प्रयोग में दक्ष करना है। इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद विद्यार्थी सामाजिक आंदोलनों और मीडिया के परस्पर व्यवहार के प्रति सचेत हो सकेंगे। बदलते समय के साथ विकास की परिभाषाओं और ज़रूरतों में भी बदलाव आया है। समाज भी पहले के मुक़ाबले ज़्यादा गतिशील हुआ है। इस पाठ्यक्रम के ज़रिए विद्यार्थी अपने सैद्धांतिक और व्यवहारिक ज्ञान और कौशल को विकसित कर सकेंगे और विकास संचार की ज़रूरतों के लिहाज़ से अपने आप को तैयार कर सकेंगे। विकास की प्रक्रिया में संचार की महती भूमिका का आकलन कर सकेंगे।

इस पाठ्यक्रम में विद्यार्थियों को विकास संचार के संदर्भ में दृश्य-श्रव्य संचार की बारीकियों से परिचित कराया जाएगा। परियोजना कार्य के अंतर्गत सामाजिक बदलाव की प्रक्रिया और मीडिया के व्यवहारिक प्रयोग से वाक़िफ़ कराया जाएगा। ग्रामीण और शहरी विकास की समस्याओं के प्रति जागरुक करते हुए किसी भी विषय पर एक परियोजना कार्य संपन्न कराया जाएगा जो विद्यार्थियों को विकास संचार में निपुण बनाएगा। साथ ही, नीति- निर्धारण में उन्हें सार्थक हस्तक्षेप करने के लिए तैयार करेगा।

(यह स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रम है। इसके शुल्क में छूट का प्रावधान नहीं।)

स्तर: डिप्लोमा

अवधि: छः माह

क्रेडिट: 120

सीट संख्या: 15(स्व वित्तपोषित)

शैक्षणिक अर्हता: मान्यता प्राप्त बोर्ड से सीनियर सेकंडरी या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण